HomeNATIONALCHHATTISGARHआदिवासी अपनी आस्था, संस्कृति और परम्पराओं पर प्रहार नहीं सहेंगे, प्रदेश सरकार...

आदिवासी अपनी आस्था, संस्कृति और परम्पराओं पर प्रहार नहीं सहेंगे, प्रदेश सरकार धर्मांतरण रोकने की ठोस पहल करे : साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रदेश सरकार पर धर्मांतरण पर रोक लगाने की ठोस पहल और धर्मांतरण में संलिप्त लोगों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष साय ने बस्तर संभाग के कोयलीबेड़ा में सर्व आदिवासी समाज द्वारा धर्म-परिवर्तन के ख़िलाफ़ छेड़े गए अभियान का ज़िक़्र करते हुए कहा कि अब तो आदिवासी समाज भी धर्मांतरण के विरुद्ध स्वस्फूर्त आंदोलन करने लगा है, रैली निकालकर और सभाओं के ज़रिए आदिवासी इलाक़ों को धर्मांतरण के कुचक्र का शिकार बनाए जाने के विरुद्ध मुखर हो रहा है और अपनी धार्मिक आस्थाओं, संस्कृति और परम्पराओं को बचाने आगे आ रहा है। साय ने कहा कि कोयलीबेड़ा में सर्व आदिवासी समाज की धर्मांतरण के विरुद्ध रैली और सभा प्रदेश सरकार और कांग्रेस नेताओं के उन दावों को झूठा साबित करने के लिए पर्याप्त है जिनमें वे धर्मांतरण को सिरे से ख़ारिज करके संघ-परिवार तथा भाजपा के ख़िलाफ़ अनर्गल विषवमन करते रहते हैं।

साय ने कहा कि कोयलीबेड़ा के सर्व आदिवासी समाज ने प्रदेश सरकार को यह हबता दिया है कि प्रदेश के आदिवासी अब अपनी आस्था, संस्कृति और परम्पराओं पर धर्मांतरण के कुचक्र का प्रहार नहीं सहेंगे और आदिवासी अब अपनी अस्मिता की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध व तत्पर हो चुके हैं। साय ने कहा कि प्रदेश सरकार आदिवासी समाज के इस संदेश के निहितार्थ को समझें और धर्मांतरण को रोकने की दिशा में ठोस पहल करें।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments