HomeNATIONALCHHATTISGARHप्रदेश की जनता पानी के लिए तरस रही,केंद्र और राज्य सरकार आपस...

प्रदेश की जनता पानी के लिए तरस रही,केंद्र और राज्य सरकार आपस में छींटाकशी करने में व्यस्त : कोमल हुपेंडी

रायपुर। आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कोमल हुपेंडी ने बयान जारी किया है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश की जनता इस गर्मी में तपिश के साथ साथ गंभीर जल संकट से त्राहि त्राहि कर रही है। प्रदेश सरकार को सुध लेने का वक्त नहीं है। जहां पेयजल है भी तो दूषित है इतना ही नहीं बिकाऊ पानी भी अधिकांश मात्रा में दूषित है, लेकिन कोई जवाबदार कार्यवाही को उत्सुक नहीं है। जनता जाए तो जाए कहा अब आम आदमी पार्टी ने कमर कस ली है कि जनता की मूलभूत सुविधा पेयजल के लड़ाई लड़ेंगे।
आप सभी की जानकारी के लिए रायगढ़, राजनांदगांव के एक चौथाई, दुर्ग-भिलाई के बीस प्रतिशत पेयजल दूषित है। इतना ही नहीं प्रदेश के 20 शहरों में प्रदूषित पेयजल बदस्तूर उपलब्ध करवाया जा रहा है।राजधानी रायपुर के भी 6 प्रतिशत नमूने जांच में मिले है प्रदूषित।
राज्य स्वास्थ्य संसाधन केन्द्र द्वारा प्रदेश के 20 प्रमुख शहरों में मितानिनों के माध्यम से पेयजल नमूनों की जांच कराई गई, इसमें प्रदेश के सभी शहरों में पेयजल के नमूने प्रदूषित पाए गए है। ये बहुत ही खतरनाक है।
राजधानी रायपुर में भी 978 पेयजल नमूनों में 58 नमूने दूषित पाए गए। यह कुल नमूनों के 6 फीसदी के बराबर है। बिलासपुर में 792 नमूनों में 49 दूषित मिले। इसी तरह धमतरी में 192 में 17 अंबिकापुर में 163 में 5, भाटापारा में 83 में 2, महासमुंद में 83 में 4, कवर्धा में 35 में 1, मुंगेली में 73 में 6, रिसाली में 192 में 20 और चरोदा में 191 में 5 नमूने प्रदूषित पाए गए। जांच में 11 फीसदी नमूनों के प्रदूषित पाए जाने से जनता में आक्रोश है और सभी आम जन यही कटाक्ष कर रहे है कि भाजपा केंद्र सरकार और कांग्रेस प्रदेश सरकार सिर्फ जुमलेबाजी और आपस में छीटाकशी करने में व्यस्त है और बाकी वक्त अपनी जेब भरने में व्यस्त है आम जनता की सुध कौन लेगा?
नगरीय प्रशासन विभाग ने मितानिनों द्वारा की गई जांच की विस्तृत जानकारी सभी 20 नगरीय निकायों को भेजकर प्रयोगशालाओं में उनकी फिर से जांच करवाने और प्रदूषित पानी वाले मोहल्लों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाने को कह भर देने से पेय जल शुद्ध नहीं हो जाएगा।
शहरों की मलिन बस्तियों में जलजनित बीमारियों दस्त, पीलिया एवं टाइफाइड की समस्या बहुत ज्यादा है। इसी को देखते हुए शहरों के अलग-अलग क्षेत्रों से पेयजल के नमूने लेकर उनकी जांच की गई। इसमें सभी नगर निगमों के अलावा बड़ी नगरपालिकाओं से 5335 नमूने जांच के लिए लिए गए। इसमें से 590 नमूने जांच में प्रदूषित मिले। यह कुल नमूनों के 11 फीसदी के बराबर है।
दुर्ग, भिलाई, रायगढ़, राजनांदगांव में ज्यादा नमूने प्रदूषित पेयजल के है जो नमूने मितानिनों द्वारा लिए गए उनमें सबसे ज्यादा प्रदूषित नमूने तीन प्रमुख औद्योगिक शहरों दुर्ग, भिलाई और रायगढ़ के पाए गए। भिलाई में 405 में 84 नमूने प्रदूषित पाए गए. यह कुल नमूनों के 21 फीसदी के बराबर है। इसी तरह दुर्ग में 453 में 95, रायगढ़ में 377 में 86 और राजनांदगांव में 232 में 59 नमूने प्रदूषित पाए गए। कोरबा में भी 772 में 90 नमूने प्रदूषित पाए गए। ये जन मानस के लिए खतरनाक है।
कोमल हुपेंडी ने भूपेश सरकार को चेताया है कि कम से कम जनता को शुद्ध पेय जल तो उपलब्ध करवाए आपकी सरकार , दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार जनता को शुद्ध जल और वो भी मुफ्त में उपलब्ध करवा रही है। जनता आज इसलिए आम आदमी पार्टी की ओर आकर्षित है और अगले चुनाव में आप दोनों पार्टियों को नमस्ते करने वाली है और आम आदमी पार्टी को एक मौका देगी।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments