HomeNATIONALBIG NEWSभ्रष्टाचार का ताजमहल बन रहा बस्तर में, डीएमएफ के दुरुपयोग का अद्वितीय...

भ्रष्टाचार का ताजमहल बन रहा बस्तर में, डीएमएफ के दुरुपयोग का अद्वितीय नमूना

“संपादक अनिल पुसदकर की कलम से”

नक्सलवाद की आड़ में नक्सलियों से ज्यादा बस्तर को लूट रही है अफसरशाही

रायपुर/तुमकपाल/दंतेवाड़ा। अफसरशाही जो न कराए कम है और डीएमएफ ने तो अफसरशाही को खुलकर खेलने का मौका दे दिया है। डीएमएफ के दुरुपयोग का ताजा उदाहरण तुमकपाल में बन रहा करोड़ों रु की लागत का अस्पताल है। जिसके निर्माणाधीन कॉलम मात्र एक उंगली के धक्के से हिचकोले खाते है,झूलने लगते है।निर्माण सामग्री बेहद घटिया है और उससे बना अस्पताल कैसे टिक पाएगा ये बड़ा सवाल है ? और अगर बन भी गया तो पता नहीं कितनी जिंदगियां की बलि ले लेगा ? सबसे खतरनाक बात तो ये है जिन कॉलम पर अस्पताल खड़ा होना है,वे खुद आधारहीन है। बीम पर खड़े किए जाने की बजाए उन्हें अलग से खड़ा किया जा रहा है। और आधारहीन होने के कारण वे हवा में झूलते है।हैरानी की बात यह है की 4 करोड़ रु के टेंडर के निर्माण कार्य को अपने लोगों को उपकृत करने के लिए टुकड़ों में बांटकर बिना टेंडर किया ग्राम पंचायत को निर्माण एजेंसी बनाकर काम दे दिया गया। अब यहां एक और हैरतअंग्ज कारनामा सामने आता है अफसरशाही का। नियमो के अनुसार जिस ग्राम पंचायत क्षेत्र में निर्माण कार्य प्रस्तावित हो उसकी निर्माण एजेंसी वही ग्राम पंचायत होती है। लेकिन यहां कार्यस्थल तुमकपाल ग्राम पंचायत में है और निर्माण कार्य कर रही है कटेकल्याण ग्राम पंचायत एजेंसी। बस्तर के सुदूर क्षेत्रों में ऐसे ही भ्रष्टाचार के बेमिसाल स्मारक बन रहे हैं जिन पर नक्सलवाद का छद्म पर्दा डालकर अफसरशाही नक्सलवाद से ज्यादा शोषण कर रही है। देखना यह होगा की डीएमएफ के दुरुपयोग का इतना बड़ा मामला सामने आने के बाद प्रशासन अब क्या कार्रवाई करता है ? क्योंकि अब शासन भी वही है अब शासन भी वही है और प्रशासन भी।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments