HomeNATIONALCHHATTISGARHकोरबा : शास स्नातकोत्तर महाविद्यालय में ‘युवाओं में विधि शिक्षा व जागरूकता'...

कोरबा : शास स्नातकोत्तर महाविद्यालय में ‘युवाओं में विधि शिक्षा व जागरूकता’ विषय का हुआ शुभारंभ

बीएन यादव कोरबा। ,पुलिस अधीक्षक कोरबा के मार्गदर्शन एवं सहयोग से शासकीय इं.वि.पीजी महाविद्यालय कोरबा में आज “युवाओं में विधि शिक्षा एवं जागरूकता” विषय पर गुणवत्ता पाठ्यक्रम (value Added course) का शुभारंभ किया गया। इस कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ऑनलाईन माध्यम से तथा कलेक्टर कोरबा रानू साहू एवं जिला पुलिस अधीक्षक कोरबा भोजराम पटेल महाविद्यालय में उपस्थित थे। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.आर के सक्सेना ने उपस्थित सभी अतिथियों का स्वागत करते हुये  इस कार्यक्रम की पृष्ठभूमि
बताते हुये कहा कि उच्च शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार वैल्यू एडेड कार्यक्रम प्रारंभ किया जा रहा है ।  पुलिस अधीक्षक भोज राम पटेल के इस विषय पर मार्गदर्शन प्राप्त होने के पश्चात महाविद्यालय प्रशासन तैयारी करने लगा जिसका परिणाम है कि आज इस पाठ्यक्रम का शुभारंभ किया जा रहा है।
छ.ग.शासन उच्च शिक्षा मंत्री  उमेश पटेल एवं  कलेक्टर कोरबा रानू साहू एवं पुलिस अधीक्षक भोजराम पटेल ने इस पाठ्यक्रम का शुभारंभ किया कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ऑनलाइन माध्यम से सम्बोधित करते हुए कहा कि विधिक शिक्षा वर्तमान समय में युवाओं के लिये आवश्यक है। अभी इस प्रकार के कार्यक्रमों का अभाव है निश्चित ही इस कार्यक्रम के प्रारंभ होने से छात्रों को लाभ होगा। छात्रों के विकास के लिये किशोरावस्था मुख्य पड़ाव होता है और इसी आयु में छात्र दिगभ्रमित होते है। इस प्रकार के शिक्षा से वे सचेत एवं जागरूक बने रहेंगे। उन्होनें पुलिस और महाविद्यालय के संयुक्त कार्यक्रम के लिए शुभकामना प्रेषित किया। कार्यक्रम में उपस्थित जिला कलेक्टर  रानू साहू ने कहा कि एक अच्छे पाठ्यक्रम की शुरूआत हो रही है। कलेक्टर कोरबा ने कहा कि आम जनता जन्म से लेकर मृत्यु तक विधि और प्रशासन से जुड़ा रहता है, इस कार्यक्रम के माध्यम से छात्र-छात्रायें न केवल सैद्धांतिक बल्कि प्रायोगिक रूप में विधि और प्रशासन के विभिन्न जानकारियों से जुड़ सकेंगे। जनता के लिये प्रशासन सरलीकृत हो इस दिशा में भी अध्ययन अध्यापन और विश्लेषण की आवश्यकता है।
इस पूरे कार्यक्रम के मार्गदर्शक पुलिस अधीक्षक भोजराम पटेल ने कार्यक्रम के शुभारंभ पर प्रसन्नता जाहिर की और कहा कि एक नई शुरूआत है। आज के समय में साइबर अपराध और अन्य अपराध से युवा जगत को सचेत होना चाहिये। महाविद्यालय युवाओं का अंतिम पड़ाव होता है और इसके
बाद युवा समाज की ओर अग्रसरित होते हैं ,अतः महाविद्यालयों में विधि शिक्षा एवं जागरूकता की आवश्यकता सदैव रही है ,ताकि जब युवा समाज में जाये तो अपराधों से स्वयं भी सचेत रहे और दूसरों को भी सचेत करें। यह कार्यक्रम 10 दिवस तक पी जी कॉलेज में ऑफ लाइन संचालित होगा, इसका प्रसारण ऑनलाईन माध्यम से भी किया जाएगा ।पाठ्यक्र में प्रत्येक छात्र को 30 घंटे का अध्यापन कराया जायेगा तथा विधि शिक्षा एवं जागरूकता से जुड़े विषयों पर जानकारी प्रदान की जायेगी। महाविद्यालय के विधि विभाग के सहायक प्राध्यापकों सुश्री अनुपमा पटेल एवं सुश्री स्वीटी ठाकुर और पुलिस प्रशासन के सहयोग से पाठ्यक्रम तैयार किया गया है। पाठ्यक्रम पश्चात् मूल्याकंन में सफल होने पर छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगा।
इस शुभारंभ कार्यक्रम में विभिन्न महाविद्यालय के 428 छात्र-छात्राओं के साथ कोरबा जिले के सभी महाविद्यालय के प्राचार्य एवं प्राध्यापक ऑनलाईन जुड़े थे। महाविद्यालय के सभी प्राध्यापक एवम 60 छात्र छात्राएं ऑफलाइन उपस्थित थे। इस अवसर पर कलेक्टर कोरबा रानू साहू ने शासकीय इं.वि.पीजी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.आर.के. सक्सेना को भारत सरकार के द्वारा प्राप्त जिला हरित पुरूस्कार का प्रमाण पत्र भी प्रदान किया। कार्यक्रम के समापन पर डॉ संजय यादव ने उच्च शिक्षा मंत्री,  कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक एवम कार्यक्रम में जुड़े सभी प्राचार्यो, प्राध्यापकों, पुलिस अधिकारियो, छात्र-छात्राओं का आभार व्यक्त किया।
कार्यक्रम के संचालन एवं तकनीकी सहयोग में उपनिरीक्षक कृष्णा साहू, सहा.प्राध्यापक डॉ.संजय यादव, डॉ.संदीप शुक्ला, अनुपमा पटेल, स्वीटी ठाकुर और पुलिस विभाग के साथ महाविद्यालय के
सभी प्राध्यापकों का सहयोग एवं मार्गदर्शन रहा।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments