HomeNATIONALCHHATTISGARHबुद्धिजीवी खामोश रहता है, तो परिवार और समाज दोनों का पतन होता...

बुद्धिजीवी खामोश रहता है, तो परिवार और समाज दोनों का पतन होता है : विपिन साहू

वैभव चौधरी धमतरी। परिवार व समाज दोनों बर्बाद होता है, जब बुद्धिजीवि खामोश रहता है और नासमझ आमदी बोलता है। किसी समाज में बुद्धिजीवियों की कमी नहीं होती है, चाटुकारिता से कोई समाज आगे नहीं बढ़ता। समाज को आगे बढ़ाने के लिए बुद्धिजीवियों को काफी संघर्ष करना पड़ता है, जिनकी लड़ाई को कभी नहीं भुलाया जा सकता है। उक्त कथन दुग्ध महासंघ मर्यादित के अध्यक्ष विपिन साहू की है जिन्होनें रायगढ़ जिले के कोसमनारा में सत्यनारायण बाबा के 24 वां एवं भक्त कर्मा माता कृष्ण मंदिर के 7 वां स्थापना दिवस और साहू युवक-युवती परिचय सम्मेलन व शपथ ग्रहण समारोह में कहा। विपिन साहू  ने कहा कि देशभर के साहू समाज को एकता और एक सूत्र में बांधने के लिए समाज के कई दिग्गजों ने पहल किया है। बाबा सत्यनारायण के धरा में सत्य अंहिसा के मार्ग में चलने की युवाओं को जरूरत है। झूठ फरेब के और दिखावा से कोई समाज आगे नहीं बढ़ सकता है। समाज के युवाओं को बेहतर मार्गदर्शन की जरूरत है, जिसे आज समाज के कई संघर्षशील व्यक्ति पूरा कर रहे है। जब समाज में बुद्धिमान व्यक्ति खामोश रहता है और ना समझ बोलता है तो परिवार और समाज दोनों बर्बाद हो जाता है। शपथ ग्रहण के मौके पर राष्ट्रीय कार्यकारिणी अध्यक्ष मोतीलाल साहू, अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग अध्यक्ष (राज्यमंत्री दर्जा प्राप्त ) थानेश्वर साहू, पर्यटन मंडल उपाध्यक्ष चित्रलेखा साहू, वि़द्यादेवी साहू, जिलाध्यक्ष साहू समाज रायगढ़ बलदाउ साहू, कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष सारंगगढ़ अरूण मालेकर, गौ सेवा आयोग सदस्य पुरूषोत्तम साहू, कांग्रेसी धमतरी गैंदलाल साहू समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

नमन है ऐसी माता को जिन्होंने सत्य को जन्म दिया-विपिन साहू

मंच में विपिन साहू ने कहा कि बाबा सत्य नारायण भगवान भोलेनाथ के देवदूत के रूप में पूजे जाते है, जिन्होंने महज कक्षा सातवी की पढ़ाई छोड़कर तप में लीन हो गए। जिसे किसी और ने नहीं बल्कि साहू समाज की माता हंसमती साहू ने जन्म दिया हैं, ऐसे बाबा के धाम नगरी में सत्य, अंहिसा के मार्ग में युवाओं को चलने की जरूरत है। कोसमनारा तपस्या में लीन बाबा सत्यनारायण बीते 1998 से खुले आसमान के नीचे भीषण गर्मी, बारिश हो या फिर कड़कड़ाती ठंड का महीना बाबा बिना कुछ कहे तपस्या में लगे हुए है। गौरतलब हो सत्यनारायण बाबा बिना कुछ कहे इशारो में बात करते है, जिन्होेंने 24 वर्ष पहले अपना जीभ भगवान भोलनाथ को चढ़ाकर तप में लगे हुए है, मान्यता है कि यहां जो भी मन्नत लेकर पहुंचता है उसकी हर मनोकामना पूरी होती है। बाबा के दरबार में पहुंचे श्री साहू ने प्रदेश की जनता की तरक्की और खुशहाली के लिए कामना किया। विपिन साहू ने कहा कि नमन है ऐसी माता को जिन्होंने ऐसे बेटे को जन्म दिया है, जो सर्व समाज के सर्वधन और संरक्षण में लगा हुआ है।


RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments