HomeNATIONALCHHATTISGARHरायपुर की अधोसंरचनाओं से प्रभावित हुए केन्द्रीय सचिव,कहा-प्रतियोगी परीक्षा की तैयारियों में...

रायपुर की अधोसंरचनाओं से प्रभावित हुए केन्द्रीय सचिव,कहा-प्रतियोगी परीक्षा की तैयारियों में जुटे युवाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ है नालंदा परिसर

रायपुर। आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार के सचिव मनोज जोशी ने गुरुवार को रायपुर स्मार्ट सिटी लिमि. की ओर से निर्मित नालंदा परिसर का भ्रमण किया। यहां अध्ययनरत प्रतिभागियों को सफलता के टिप्स दिए। उन्होंने छात्रों से कहा कि रायपुर में परीक्षाओं की तैयारी के लिए विश्व स्तरीय सुविधाओं का होना उनके लिए एक बेहतर अवसर है। यहां वे अध्ययन के साथ समूह परिचर्चा में सम्मिलित होकर अपनी कुशलता बढ़ा सकते हैं।
उन्होंने कहा कि रायपुर में उत्कृष्ट अधोसंरचनाएं निर्मित है और इसका लाभ जन सामान्य को मिल रहा है।

उल्लेखनीय है कि विश्व स्तरीय सुविधाओं से सुसज्जित नालंदा परिसर का निर्माण खनिज निधि व पर्यावरण संरक्षण मंडल के सहयोग से रायपुर स्मार्ट सिटी लिमि. की ओर से 10 माह की अल्पावधि में पूरा किया गया। यहां उपलब्ध 24 घंटे अध्ययन की सुविधा का लाभ उठाते हुए प्रति वर्ष प्रतिभागी परीक्षाओं में सफलता भी प्राप्त कर रहे हैं।

सचिव जोशी के नालंदा परिसर आगमन पर रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के प्रबंध संचालक अभिजीत सिंह ने उनका स्वागत किया और विश्व स्तरीय अध्ययन सुविधा केन्द्र के रूप में प्रतिष्ठित इस परिसर में प्रदान की जा रही सेवाओं के संबंध में विस्तार से उन्हें अवगत कराया। उन्हें अवगत कराया गया कि यहां 24 घंटे इंडोर-आउटडोर रीडिंग व्यवस्था, वातानुकूलित यूथ टावर, मल्टीमीडिया रीडिंग जोन निर्मित है। प्रकृति के सानिध्य में अध्ययन के लिए बायोडायवर्सिटी युक्त गार्डन गजिबो, परगोलास व केनोपी में 18 इंटेरेक्टिव जोन भी निर्मित है। 1000 बैठक क्षमता वाले इस लाइब्रेरी में सभी संकाय की पुस्तकों के साथ ही ई-लाइब्रेरी, हाईटेक कम्प्यूटर की भी सुविधा उपलब्ध है। इस परिसर का संचालन नालंदा परिसर प्रबंधन सोसायटी की ओर से किया जाता है।
सचिव जोशी ने कहा कि आज रायपुर प्रवास के दौरान उन्होंने नगरीय सेवाओं से संबंधित उत्कृष्ट एवं वृहद अधोसंरचनाओं का भ्रमण किया है। ये सुविधाएं आम नागरिकों के जीवन से सीधे तौर पर जुड़ी है और शहर के पर्यावरण संरक्षण, जनसंख्या घनत्व के अनुरूप भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है। नालंदा परिसर जैसी सुविधाओं को विद्यार्थियों के लिए अत्यधिक उपयोगी बताते हुए उन्होंने इसका पूरा लाभ उठाने का सुझाव भी प्रतिभागियों को दिया।


इस अवसर पर जिला रोजगार अधिकारी केदार पटेल, नालंदा परिसर की लाइब्रेरियन मंजुला जैन ने सचिव जोशी को अवगत कराया कि प्रतिभागियों के लिए इस लाइब्रेरी में 50 हजार पुस्तकें उपलब्ध है। शिक्षा दान योजना के तहत 10 हजार उपयोगी पुस्तकेें भी दान से प्राप्त हुई है। निरीक्षण भ्रमण के दौरान सचिव जोशी पी.एम. स्वनिधि योजना के हितग्राहियों से भी मिले और उनके अनुभव साझा किए। चर्चा में हितग्राहियों ने उन्हें बताया कि कोरोना काल की विपरीत परिस्थितियों में बिगड़ी आर्थिक स्थिति को संभालने में इस योजना का लाभ प्राप्त हुआ और अब पुनः अपने व्यवसाय को गति दे पा रहे हैं। हितग्राहियों ने यह भी बताया कि रायपुर नगर निगम, शहरी आजीविका मिशन और स्थानीय बैंकों से पूरी मदद मिल रही है, जिससे लोन प्राप्त करने एवं उसकी अदायगी एवं पुनः अधिक राशि का लोन प्राप्त करने में समस्या नहीं आती। चर्चा के दौरान शहरी आजीविका मिशन की टीम भी साथ थी।

इस दौरान नगरीय प्रशासन विभाग की सचिव अलरमेल मंगई डी, भारत सरकार के संयुक्त सचिव हेमंत कुमार पटेल, कलेक्टर सौरभ कुमार, रायपुर स्मार्ट सिटी लिमि. के प्रबंध संचालक अभिजीत सिंह, कमिश्नर प्रभात मलिक, रायपुर स्मार्ट सिटी लिमि. के अतिरिक्त प्रबंध संचालक चंद्रकांत वर्मा, एडिशनल कमिश्नर अभिषेक अग्रवाल भी साथ थे।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments